बस कंडक्टर कैसे बने? क्या करें? हिंदी में पूरी जानकारी

बस कंडक्टर कैसे बने_ क्या करें_

यदि आप बस कंडक्टर बनना चाहते हैं तो आज हम इसके बारे में पूरी जानकारी बता रहे हैं

आज हम इस पोस्ट में बात करना वाले हैं कि हम बस कंडक्टर मैं जॉब कैसे करें वैसे तो हम सब जानते हैं कि बस कंडक्टर का काम रोडवेज बसों में लोगों को टिकट काटने का ही होता है

इसमें ड्राइवर और कंडक्टर दोनों साथ में ही रहते हैं तो चलिए बात करते हैं कैसे बने रोडवेज बस में कंडक्टर-

योग्यता और आयु सीमा क्या होनी चाहिए

 

योग्यता और आयु सीमा क्या होनी चाहिए

वैसे अब तो बस कंडक्टर बनना बहुत ही आसान है इसमें ज्यादा कठिनाई वाली समस्या नहीं है

विद्यार्थी को 12वीं में अच्छे अंक हासिल करना चाहिए ताकि वह आगे किसी भी फील्ड में जॉब के लिए अप्लाई कर सके 12वीं के बाद बस कंडक्टर की जॉब के लिए भी अप्लाई कर सकते हैं

वैसे तो बस कंडक्टर बनने के लिए पुरुष ही आवेदन कर सकते हैं लेकिन वर्तमान में केंद्र सरकार द्वारा घोषित कर दिया गया है कि महिला उम्मीदवार भी बस कंडक्टर के लिए आवेदन दे सकती हैं

आपके पास आवेदन करने के लिए योग्यता सर्टिफिकेट होना बहुत जरूरी है

आपकी आयु कम से कम 18 से 40 के बीच होने चाहिए महिला और पुरुष दोनों के लिए ही आयु सीमा एक ही निर्धारित की गई है

केंद्र सरकार द्वारा अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति तथा आरक्षित वर्ग के लिए आयु में छूट की घोषणा की गई है

इसमें शरीर को फिट रखना बहुत जरूरी है और इसके लिए आपको शारीरिक व्यायाम रोजाना करना चाहिए टहलने के लिए भी जाए ताकि हम मजबूत रहें।

कंडक्टर बनने के लिए क्या करें

 

कंडक्टर बनने के लिए क्या करें

वर्तमान समय में सरकारी नौकरी पाना बहुत कठिन कार्य हो चुका है ऐसे में बस कंडक्टर की नौकरी पाना भी आसान नहीं रह गया है

लेकिन कठिन मेहनत के बाद भी आप यह कर सकते हैं निरंतर प्रयास के बाद आप अपना परिणाम देख सकते हैं

बस कंडक्टर बनने के लिए वैसे ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ती लेकिन निरंतर मेहनत करनी चाहिए ताकि आप हर फील्ड में अपना बेहतरीन परिणाम पा सके रोडवेज बस में कंडक्टर बनने के लिए आपको लिखित परीक्षा देनी होगी

इसके बाद शारीरिक जांच भी होगी ताकि आपके शरीर में कोई कमी तो नहीं है इसके बाद आपको डॉक्यूमेंट वेरीफाई भी होगी जिससे आपकी एजुकेशन के बारे में पता लगाया जा सके

कैसे करें तैयारी

यदि आपने 12वीं पास कर ली है तो आप इस परीक्षा की तैयारी भी आसानी से कर सकते हैं इसके लिए आपको ऑनलाइन या मार्केट से जाकर कुछ किताब भी खरीद सकते हैं जैसे कंडक्टर भर्ती परीक्षा बुक

इसमें आपको कुछ सॉल्व पेपर भी मिल सकते हैं जिसके जरिए आप है पता कर सकते हैं कि किस तरह के क्वेश्चन पेपर में पूछे जाएंगे

आप उसके पैटर्न को समझने की कोशिश कीजिए उसके बाद ही परीक्षा की तैयारी शुरू कीजिए इस तरह आप अपने परीक्षा की तैयारी अच्छे से कर पाएंगे

ऑनलाइन करें आवेदन

वैसे तो केंद्र सरकार द्वारा समय-समय पर बस कंडक्टर की भर्ती निकाली जाती है और इसकी सूचना जल्दी ही जारी कर दी जाती है आवेदक ऑनलाइन आवेदन भी कर सकता है

भर्ती अधिसूचना में जारी की गई जानकारी को फॉलो करते हुए आवेदक उसमें मौजूद वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन भी आवेदन दे सकते हैं

भर्ती प्रक्रिया

आवेदन देने के बाद हमारा एडमिट कार्ड आता है इसके बाद आवेदक की लिखित परीक्षा और साक्षात्कार होता है अधिक जानकारी के लिए आपको यह भी बता दें कि बहुत बार कंडक्ट की भर्ती डायरेक्ट भर्ती होते हैं

इसमें कोई लिखित परीक्षा नहीं होती केवल इंटरव्यू के आधार पर भी उम्मीदवार का चयन किया जाता है लेकिन अधिकतर भर्ती में लिखित परीक्षा और साक्षात्कार भी होता है

इसमें सबसे पहले उम्मीदवार को लिखित परीक्षा पास करनी होती है तथा इस परीक्षा में आपसे ऑब्जेक्टिव क्वेश्चन पूछे जाते हैं

बस कंडक्टर कैसे बने_ क्या करें_

 

जब आप यह परीक्षा पास कर लेते हैं तो उम्मीदवार को साक्षात्कार के लिए बुलाया जाता है

अधिकारी आपकी बुद्धि क्षमता को जानने के लिए आप से कुछ उलट-पुलट सवाल पूछते हैं ताकि वह जान सके कि आपको कितना ज्ञान है

वह आप को परखने की कोशिश कर रहा है कम शब्दों में ही बात को खत्म करने की कोशिश करें केवल जितना पूछा गया है

उतना ही बताएं इसके बाद जब आप इंटरव्यू क्लियर कर लेते हैं तो कुछ महीने बाद आपको एक लेटर आता है जिसमें आपको ट्रेनिंग के लिए बुलाया जाता है

जब आप ट्रेनिंग के लिए जाते हैं तो आपको यह सिखाया जाता है कि आपको क्या करना है कैसे करना है कैसे बस को कंट्रोल करना है इस तरह का कार्यभार आपको बताया जाता है

इसके बाद जब आपकी ट्रेनिंग खत्म हो जाती है तो आपको बस कंडक्टर का सारा सामान दे दिया जाता है और आप को आप के पद पर नियुक्त कर दिया जाता है

कंडक्टर का कार्य

बस कंडक्टर का कार्य होता है सवारी को सही समय पर सही जगह पहुंचाना कंडक्टर को बस में सफाई का विशेष ध्यान रखना चाहिए ताकि बस में बैठे लोगों को कोई दिक्कत ना आए

यदि कोई बुजुर्ग खड़ा है तो उसे बस में सीट दिलाना कंडक्टर का ही कार्य होता है उसे बस में किसी के साथ झगड़ा नहीं करना चाहिए बल्कि सबसे प्यार से बोलना चाहिए ताकि सामने वाला वैसे आकर्षित हो सके

उसे सरकार द्वारा दिए गए नियमों का भी पालन करना चाहिए कंडक्टर को कभी भी अपनी मर्जी के अनुसार किराए के अधिक पैसे नहीं लेने चाहिए और बदले में टिकट भी देनी चाहिए

दूसरों से सहजता से बात करना चाहिए बस चलते समय कंडक्टर को एक बार भी है देख लेना चाहिए कि कोई सवारी आगे या पीछे दौड़ तो नहीं रही है

यदि दौड़ रही है तो उसे बस को स्टॉप करवा देना चाहिए ताकि जो सवारी रह गई है वह भी सही समय पर पहुंच जाए

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here