आर्मी की तयारी कैसे करे & आर्मी की ट्रेनिंग कैसे और कहा होती है?

आर्मी की तयारी कैसे करे & आर्मी की ट्रेनिंग कैसे और कहा होती है_

इस पोस्ट में हम आपको आर्मी की तयारी कैसे करे & आर्मी की ट्रेनिंग कैसे और कहा होती है? इसके बारे में बताएँगे आजकल के बच्चों की सबसे बड़ी समस्या जोब ना लगना हर क्षेत्र में आज का युवा सबसे बड़ी समस्या से जूझ रहा है तो वह है

किसी भी कार्य में सफल ना हो ना दुनिया में हर किसी का सपना अलग अलग होता है कोई डॉक्टर बनना चाहता है कोई इंजीनियर बनना चाहता है कोई पुलिस में लगना चाहता है

कोई आर्मी में जाना चाहता है तो कोई एडवोकेट बनना चाहता है सबका अलग-अलग सपना होता है लेकिन इसे साकार करना हर किसी के बस की बात नहीं होती और जो अपने सपनों को साकार कर लेता है अपने जीवन में सफल हो जाता है

आर्मी की तयारी कैसे करे & आर्मी की ट्रेनिंग कैसे और कहा होती है?

 

वहीं से बच्चों की यही समस्या है कि यह जॉब नहीं लग पाता ऐसे में अपना हौसलाखो बैठते हैं आज मैं आप इंडियन आर्मी के बारे में बताऊंगा जो बच्चे आर्मी में जाना चाहते हैं

 

आर्मी की तयारी कैसे करे & आर्मी की ट्रेनिंग कैसे और कहा होती है_

 

उनके लिए बहुत अच्छा मौका होता है देश की सेवा करने का आर्मी में लगना हर किसी की सोच नहीं होती लेकिन जिसकी सोच होती है बहुत अच्छी होती है

पूरे देश की सेवा करने का मौका मिल जाता है और साथ ही साथ अपना घर परिवार रिश्तेदार को छोड़कर देश की सेवा करने में जुटे रहते हैं

इंडियन आर्मी युवाओं के लिए प्रेरणा का संदेश दिया जो अपने अपने देश के लिए सब कुछ छोड़ सकते हैं वतन पर फिदा हो जाते हैं अपने घर परिवार को छोड़ देते हैं

आर्मी में लगने के लिए कितने नंबर लाना जरुरी है?

 

आर्मी में लगने के लिए आपको सबसे पहले आप बाहर में पास करें लगभग 50% अंकों के साथ इसके बाद आप किसी भी कॉलेज से ग्रेजुएट है इसमें भी 50% अंक लेना जरूरी है जरूरी नहीं है कि आपकी ग्रेजुएशन पूरी हुई हो आप 12वीं के बाद भी आर्मी के लिए अप्लाई कर सकते हैं

इसके बाद आप को लगने के लिए दो पेपर देने होते हैं और फिजिकल होता है इसके बाद आपका मेडिकल टेस्ट होता है इसके बाद आपकी डॉक्यूमेंट क्वालिफिकेशन होती है इसके बाद आपको ट्रेनिंग पर जाने के लिए भेजा जाता है

सबसे पहले आपको दो पेपर देना होंगे पहले पेपर में आपको ऑल सब्जेक्ट का टेस्ट होता है इसके बाद आपका दूसरा पेपर होता है जिसमें टाइपिंग टेस्ट होता है आपको दोनों ही पेपर क्लियर करना होंगे इसमें कोई बड़ी बात नहीं है

आप कर सकते हैं आपको इसमें 60 अंक लेना जरूरी है पास होना जरूरी है इसके बाद आपका फिजिकल होता है फिजिकल में आपसे लॉन्ग जंप हाई जंप और दौड़ करवाई जाती है

आपका सीना कितना होना चाहिए?

 

आपका सीना कितना होना चाहिए_

 

लड़कों के लिए उनका सीना भी देखा जाता है इसके लिए आपकी हाइट भी कम से कम 5 फुट 5 इंच होने चाहिए और लड़कियों की भी 5 इंच 5 फुट की हाइट होनी चाहिए आर्मी में लड़का और लड़की दोनों ही आवेदन दे सकते हैं जो भारत सरकार के द्वारा मान्यता दी है

जब आप फिजिकल क्लियर कर लेते हैं तो आपको आर्मी के अगले राउंड के लिए सिलेक्ट कर लिया जाता है इसके बाद आपका मेडिकल किया जाता है मेडिकल में आपके पूरे शरीर की जांच की जाती है और यदि आपके शरीर के किसी भी पार्ट में कोई कमी है तो उसके लिए आपको एक चांस और दिया जाता है

साथ ही साथ मेडिकल भी दी जाती है ताकि आपके उस पार्ट की भरपाई जल्दी हो सके आपको दोबारा फिर मेडिकल के लिए बुलाया जाता है

यदि आप इस बार मेडिकल कलियर कर लेते हैं तो आप को सेलेक्ट कर लिया जाता है उसके बाद आपका क्वालिफिकेशन टेस्ट आता है जिसमें आपके सारे वेरीफिकेशन की मार्कशीट देखी जाती है

आर्मी की ट्रेनिंग कैसे और कहा होती है?

इसके कुछ महीनों बाद आपको एक लेटर आता है जिसमें आपको ट्रेनिंग के लिए बुलाया जाता है आपको आर्मी की ट्रेनिंग के लिए कहीं भी भेजा जा सकता है

आर्मी के 2 साल की भी हो सकती है इस जरिए आपको सशस्त्र तलवारबाजी घुड़सवारी आदि करना भी सिखाई जाती है इसके बाद आपको अच्छी तरह से तैयार किया जाता है ताकि हर इंटरनेशनल डे पर अपने अच्छी प्रस्तुति दे सके देश केहर बॉर्डर पर आपको तैनात किया जाता है

 

आर्मी की ट्रेनिंग कैसे और कहा होती है_

 

ताकि आप बाहरी आतंकवादी गतिविधियों से देश को बचा सके हर इंडियन आर्मी के जवान अपने देश की सेवा के लिए हमेशा तत्पर रहते हैं और आतंकवादियों के हमले से हमारे देश को बचाते हैं जो भारतीय नागरिक है

अपने देश के लिए अपने प्राण त्याग कर देते हैं जब हमारे देश पर आतंकवादियों का हमला होता है तो हमारे देश के जवान उस आतंकवादी हमले में शहीद हो जाते हैं जो बच्चे आर्मी के लिए तैयारी करते हैं उनके लिए अच्छा मौका होता है कि देश की सेवा करें

जो विद्यार्थी अभी आर्मी की तैयारी कर रहे हैं यदि वे अपने लक्ष्य में असफल हो जाते हैं तो उन्हें कभी पीछे नहीं हटना चाहिए बल्कि बार-बार प्रयत्न करते रहना चाहिए और अपने मन में विश्वास होना चाहिए कि हम कर सकते हैं

यदि वे एक बार अपने लक्ष्य से पीछे हट जाते हैं तो जीवन में उनके लिए कामयाब होना असंभव हो जाता है बार-बार पर्यटन करना चाहिए मनुष्य अपने जीवन में तरक्की कर सकता है और

उसे कोशिश करने भी चाहिए आर्मी के नंबर्स फूल नहीं बल्कि पत्थर की तरह होते हैं एक छोटी सी शायरी जिस दिन फूल बनकर खेलोगे जल्दी ही टूट जाओगे जिस दिन पत्थर बनकर तराशे जाओगे तो भगवान बन जाओगे|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here